कब और कैसे ? मैं लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के संगीत का “फैन” बना.

कब और कैसे ? मैं लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के संगीत का “फैन” बना.  साल 1963 था, मैं 8 साल की उम्र में ग्वालियर में पढ़ रहा था, एक ऐसे ब्राम्हण परिवार में पला बड़ा हुआ जो पौराणिक फिल्मों को छोड़कर फिल्में देखने की अनुमति नहीं देता था. वही समय अवधि जब ‘हरिश्चंद्र तारामती’ और ‘संत ज्ञानेश्वर’ हर… Continue reading कब और कैसे ? मैं लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के संगीत का “फैन” बना.

गाने जो हिट थे हिट रहेंगे  ! बिनाका गीतमाला और लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल !!

गाने जो हिट थे हिट रहेंगे  ! बिनाका गीतमाला और लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल !! एक संगीत प्रेमी के रूप में हम बीनका गीतमाला में श्री अमीन सयानी द्वारा मापे गए गीतों की लोकप्रियता पर विश्वास करते हैं…। साल 1953 में… बिनाका गीतमाला हिंदी सिनेमा के शीर्ष फिल्मी गीतों का एक साप्ताहिक रेडियो काउंटडाउन शो था, जिसे लाखों… Continue reading गाने जो हिट थे हिट रहेंगे  ! बिनाका गीतमाला और लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल !!

लता मंगेशकर – मोहम्मद रफ़ी / लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल, सम्मोहक तराने

लता मंगेशकर – मोहम्मद रफ़ी / लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल, सम्मोहक तराने 1963 में अपनी पहली फिल्म “पारसमणि” से ही, लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने दो महान गायकों, मोहम्मद रफ़ी – लता मंगेशकर के साथ कुछ शानदार युगल गीतों की रचना की है।  मोहम्मद रफी ने संगीत निर्देशकों लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के तहत सबसे ज्यादा 379 गाने गाए हैं, जिनमें 183 एकल शामिल… Continue reading लता मंगेशकर – मोहम्मद रफ़ी / लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल, सम्मोहक तराने

लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल और अभिनेता / अभिनेत्री की सिग्नेचर ट्यून्स (सांकेतिक धुने)

लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल और अभिनेता / अभिनेत्री की सिग्नेचर ट्यून्स (सांकेतिक धुने)  संगीत निर्देशक लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने ऐसे कई लोकप्रिय गीतों की रचना की है, जिससे फिल्मों को हिट होने के साथ-साथ फिल्म अभिनेताओं / अभिनेत्रियों की लोकप्रियता में वृद्धि हुई है। 1969 में “दो रास्ते” के लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल जादुई सुपरहिट गीत, ‘बिंदिया चमके गी ‘ ने मुमताज को… Continue reading लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल और अभिनेता / अभिनेत्री की सिग्नेचर ट्यून्स (सांकेतिक धुने)

साठ के दशक की दूसरी छमाही, हिंदी फिल्म संगीत, लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल की संप्रभुता

साठ के दशक की दूसरी छमाही, हिंदी फिल्म संगीत, लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल की संप्रभुता लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल, वर्षवार, संगीत यात्रा (संगीत हिट फिल्में) की तुलना 1963 से 1993 तक अन्य समकालीन संगीत निर्देशकों की प्रमुख संगीत हिट फिल्मों के साथ की है। प्रत्येक वर्ष के तुलनात्मक विवरण के अंत में मैंने उन गीतों की सूची भी दी है, जिन्हें… Continue reading साठ के दशक की दूसरी छमाही, हिंदी फिल्म संगीत, लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल की संप्रभुता

किशोर कुमार और लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल एक बेहतरीन तिकड़ी

किशोर कुमार और लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल 1964 में निर्देशक शांतिलाल सोनी, किशोर कुमार और कुमकुम अभिनीत “मिस्टर एक्स इन बॉम्बे” बना रहे थे। जाहिर है, एक गायक के रूप में किशोर कुमार ही “मि. एक्स इन बॉम्बे” के गाने गाएंगे. लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने इससे पहले  बी ग्रेड फिल्मे  “पारसमणि”, “हरिश्चंद्र तारामती”, “सती सावित्री”, “संत ज्ञानेश्वर” और “दोस्ती” की… Continue reading किशोर कुमार और लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल एक बेहतरीन तिकड़ी

LAXMIKANT-PYARELAL Music Forever.

Review of the Book LAXMIKANT-PYARELAL Music Forever. By P P Ramchandran. ————————————————————————— Mr. P P Ramchandran, popularly known as Mr. PPR. Mr. PPR deserves all praise for his achievement especially at 83 + age. His name should be included in gunnies book of records. He is married to books, has more than 2000 books in… Continue reading LAXMIKANT-PYARELAL Music Forever.

Published
Categorized as Book Review

Conspicuous Ternion :: Majrooh Sultanpuri & Laxmikant-Pyarelal

Conspicuous Ternion :: Majrooh Sultanpuri & Laxmikant-Pyarelal Majrooh Sultanpuri, as a songwriter, entered into film music in 1945. His contributions to the Indian film music is boundless. His lyrics effortlessly blend with the tunes, the words soothingly flowing over the notes that even after decades’ people would still murmur these numbers.  Young Laxmikant-Pyarelal made a… Continue reading Conspicuous Ternion :: Majrooh Sultanpuri & Laxmikant-Pyarelal

Laxmikant-Pyarelal & Anand Bakshi Heterogeneity Of Songs For Kishore Kumar

Laxmikant-Pyarelal & Anand Bakshi Heterogeneity Of Songs For Kishore Kumar  Laxmikant-Pyarelal made banging as well as vigorous start through the music of Parasmani, released in the fourth quarter of 1963. In the next year, 1964, after creating a Magical Hits with Lata Mangeshkar Sati-Savitri and Sant Gyaneshwar and Mohammad Rafi Dosti,  it was now time… Continue reading Laxmikant-Pyarelal & Anand Bakshi Heterogeneity Of Songs For Kishore Kumar

Mellifluous Use of FLUTE : Laxmikant-Pyarelal Canorous Orchestra

Mellifluous Use of  FLUTE :  Laxmikant-Pyarelal Canorous Orchestra  Hindi Film Music orchestra is full of various musical instruments. FLUTE is the most commonly used in most of the songs. Any devotional song featured the FLUTE. But there are also several songs in which the Flute is used in various ways.  Flute is a natural fit… Continue reading Mellifluous Use of FLUTE : Laxmikant-Pyarelal Canorous Orchestra